भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अँगना निपिहऽ हे सासु, कीलबे कोल हे / अंगिका लोकगीत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

पतोहू अपनी सास से कोहबर लिखने, उसे सजाने तथा अपनी ननद के लिए उससे दामाद ढूँढ़ने का उपाय बतलाती है। वह योगी के रूप में बैठे हुए दामाद को फुसलाकर लाने का भी तरीका बतलाती है। बाद में तो वह उसे फुसलाकर अपने अनुकूल बना ही लेगी। उसका यह कहना कितना उपयुक्त है कि बेला का फूल संध्या समय खिलता है, लेकिन आपका दामाद आधी रात को खिलता है। फिर तो सवेरा होते-न-होते प्रीति जुड़ ही जायगी।
इस गीत में वर्णित पतोहू अत्यंत चतुर तथा व्यवहार कुशल है।

अँगना निपिहऽ[1] हे सासु, कीलबे कोल[2] हे।
कोहबर लिखिहऽ हे सासु, मन चित लगाय हे॥1॥
सभे रँगल पटिया हे सासु, दिहो तू बिछाय हे।
मानिक दियरा हे सासु, सेहो दिहो जराय हे।
सभे समतुल[3] करि हे सासु, खोजिहऽ जमाय हे॥2॥
गाम के पछिम हे सासु, बिहुली[4] के गाछ हे।
ओहि तर बैठल हे सासु, रघुरैया जमाय हे॥3॥
तपसी के भेस हे सासु, धूनिया रमाय[5] हे।
हाथ धै उठैहऽ हे सासु, चूमि बरु लिहऽ हे॥4॥
चलि जब दिहऽ हे सासु अँगुरी लगाय हे।
धिआ के नुकैहऽ[6] हे सासु, छिटकी[7] लगाय हे॥5॥
हमहिं परबोधब हे सासु, तोरो जमाय हे।
बेला जे फूलै हे सासु, साँझुक बेरिया[8] हे॥6॥
तोहरे जमैया हे सासु, फूलै आधी रतिया हे।
होयते भिनसरबा हे सासु, जोड़तै पीरितिया हे॥7॥

शब्दार्थ
  1. लीपना
  2. चारों ओर; कोना-कोना; टुकड़ा-टुकड़ा करके
  3. एकत्र करके; संतुलित करके
  4. वृक्ष-विशेष
  5. आग जलाकर तापना या तपस्या करना
  6. छिपा देना
  7. सिटकिनी
  8. साँझ के समय