भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अँगना में रोपलूँ हम नेमुआँ खिरकिया अनार जी / मगही

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मगही लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

अँगना में रोपलूँ हम नेमुआँ[1] खिरकिया[2] अनार जी।
दरोजे[3] पर रोपलूँ नौरँगिया, बगीचवे में आम जी॥1॥
अँगना में फूलल[4] नेमुआ, खिरकिया अनार जी।
दरोजे पर फरल[5] नौरँगिया, बगीचवे में आम जी॥2॥
अँगना के नेमुआ हइ खट्टा, हइ मिट्ठा अनार जी।
खटमिठ लगे नौरँगिया, मीठे-मीठे आम जी॥3॥
हम खायम[6] नेमुआ के निमकी, सइयाँ जी अनार जी।
ननदी के देबइ नौरँगिया, होरिलवा के आम जी॥4॥

शब्दार्थ
  1. नींबू
  2. खिड़की
  3. दरवाजा
  4. पुष्पित हुआ
  5. फला
  6. खाऊँगी