भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अँजुरी भर फूल / अजित कुमार

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अँजुरी भर फूल

मुझमें जो भाव उगे-उमड़े,
वे होंगे कुछ;
तुमने देखे केवल—
अँजुरी भर फूल ।

तुम कितनी अविदित हो,
मैं कैसा अस्थिर हूँ;
निश्चित हैं केवल ये—
अँजुरी भर फूल ।
मन तो कुटिल है, और
तन । कितना दूषित है;
तुमको समर्पित ये—
अँजुरी भर फूल ।