भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अँधियरवा में ठाढ़ गोरी का करलू / कबीर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अँधियरवा में ठाढ़ गोरी का करलू॥टेक॥
जब लग तेल दिया में बाती, येहि अँजीरवा बिछाय घलतू॥1॥
मन का पलँग सँतोष बिछौना, ज्ञान क तकिया लगाय रखतू॥2॥
जरिगा तेल बुझाय गइ बाती, सुरेति में मुरति समाय रखतू॥3॥
कहै कबीर सुनो भाइ साधो, जोतिया में जोतिया मिलाय रखतू॥4॥