भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अँधेरा हो चुका था शाम से पहले / प्रणव मिश्र 'तेजस'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अँधेरा हो चुका था शाम से पहले
मुसाफ़िर डर गए अंजाम से पहले

ये मुमकिन था की कल तुम भी बदल जाते
तभी तो चुप रहे हंगाम से पहले

शबे-तन्हा, सितारे, चन्द आवारा
ये सब अपने हुए इल्ज़ाम से पहले

बहुत डरती है मुझसे रौशनी घर की
नहीं मिलते हम उससे काम से पहले

मैं जितना हूँ ये सब है और का हिस्सा
कभी अपना था मैं इस नाम से पहले

न जाने क्या किया उसने की सूरज चाँद
उभर आते किसी भी बाम से पहले

हमें भी अब पता है ख़ाब का मंज़र
तड़प लेते हैं कुछ आराम से पहले