भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

अँधेरी रातमा / हिरण्य भोजपुरे

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

 
अँधेरी रातमा जून बनेर आउनू
अँधेरी रातमा जून बनेर आउनू ।

कुहिरोको घुम्टो ओढेर
मीठो-मीठो मुस्कान छर्दै-छर्दै
मीठो-मीठो मुस्कान छर्दै-छर्दै
मेरी मायालु आउनू ।

रुप मधुर मनमा मेरो
तिमी नै मेरो सेरो र फेरो
सपनाकी सँगी तिमी
विपना बन्दै आउनू।