भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अँधेरी सुंरगों में चलना कठिन है / डी. एम. मिश्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अँधेरी सुंरगों में चलना कठिन है
कि अपने मुकद्दर से लड़ना कठिन है।

वफ़ादार बोलो कहो बेवफ़ा या
तुम्हारी क़सम अब बदलना कठिन है।

न तो रास्ता है, न तो कोई मंजिल
कहाँ जा रहा हूँ ये कहना कठिन है।

मुझे यह ख़बर है कि गहरी नदी है
भँवर में है कश्ती सँभलना कठिन है।