भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अँधेरे में / चंद्र रेखा ढडवाल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


तुमने बिछाया
वह बिछी
तुमने ताना
वह तन गई
सिर नवा कर लिया
जो दिया तुमने
तुमने माँगा
तो लौटाया
बिन हील हुज्जत
लौ नहीं हुई
पर जलती रही
तपी नहीं पर पिघलती रही
तुम्हारे हुक़्मनामों के बावजूद लेकिन
पढ़ती रही अपने हक़ में लिखी गई
किताबों के पन्ने भी
रखती रही उनमें
तितलियों के पर भी
उकेरती रही नखों से
हाशियों में अपने लिए
सूरज / नदी / बेल-बूटे
पंक्ति-बद्ध अक्षरों को
कभी नारों -सा उछालते
कभी झण्डे-सा उठाते
और कभी भाँजते तलवार की तरह
लहुलुहान हथेलियों को
छापती रही कोरे काग़ज़ पर
दीवार पर /धूप और बारिश पर
ज्यूँ का त्यूँ
ताकि आने वाली पीढ़ियों को
अँधेरे में इक चिराग़ मिले