भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अँध्यारे तौ खावे फिर रये / महेश कटारे सुगम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अन्ध्यारे तौ खावे फिर रये
सबरे दिया बुजावे फिर रये

गैलन में उपटा बैठे हैं
वे तौ हमें गिरावे फिर रये

डग-डग पै हिम्मत के लानें
भय के भूत डरावे फिर रये

खेल-खेल रये हार जीत कौ
कैसेंऊँ हमें हरावे फिर रये

हरे-भरे हम काय अबै तक
खोदत जड़ें सुखावे फिर रये

सुगम लगा कें पूरी ताकत
कारे करम दवावे फिर रये