भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अंकित होने दो / शेखर जोशी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैं कभी कविताएँ लिखता था, शुभा !
और तुम अल्पना !
चाँद-तारे
फूल-पत्तियाँ
और शंखमुद्री लताएँ चित्रित करते
न जाने कब
कविताओं की डायरी में
मैं हिसाब लिखने लगा ।
कभी ख़त्म न होने वाला हिसाब
अल्ल-सुबह टूटी चप्पल से शुरू होकर
 देर रात में फटी मसहरी के सर्गों तक फैला
अबूझ अंकों का महाकाव्य

और तुम
अस्पताल, रोज़गार-दफ़्तर
और स्कूलों की सूनी देहरी पर
माण्डती रही वर्तुल अल्पना

साल दर साल !
साल दर साल !!

शुभा !
अभिशप्त हैं पीढिय़ाँ
लिखने को कविताएँ
बुनने को सपने
और अंकित करने को सतरंगी दुनिया ।

न रोको उन्हें
लिखने दो शुभा
दीवारों पर नारे ही सही
अंकित होने दो उनके सपनों का इतिहास ।