भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अंकुरण / अनिता भारती

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मन की अंधेरी
कारा ने
छुपा लिया है
सूरज

माना कि आँधी ने
उड़ा दिया है सूरज को,
माना कि बिजली की
कड़कड़ाहट ने
अंकुरों में भर दिया है कंपन

पर ये नव अंकुर है
अब हर हाल में
इन्हें पेड़ बन
आसमान पर
छाना ही है...