भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अंकुर-2 / इब्बार रब्बी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

क्या से क्या हो रहा हूँ
छाल तड़क रही है
किल्ले फूट रहे हैं
बच्चों की हँसी में
मुस्करा रहा हूँ।
फूलों की पाँत में
गा रहा हूँ।

रचनाकाल :