भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अंकुर नहीं फूटा / एक बूँद हम / मनोज जैन 'मधुर'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तुम्हारे हाथ में सरकार
सौंपी थी समझ अपना
मुझे डर है न थम जाए
कहीं गणतंत्र का पहिया

किसी भी योजना के बीज का
अंकुर नहीं फूटा
किया वादा सी क्षण काँच की
मानिन्द वह टूटा
मुकदमे फौजदारी के,
लगे थे सैकड़ों जिस पर
वही शठ न्याय के हाथों
हमेशा जेल से छूटा

तुम्हारे हाथ में पतवार
बस तुम ही खिवैया हो
पता क्या कब डुबो दोगे
हमारे देश की नइया
अगर तुम हाथ रख दो तो
धनी हो जाय भिखमंगा
अगर मर्जी तुम्हारी हो
शुरू हो जायेगा दंगा
सदा जनतंत्र के शोषक रहे हो
तुम पहन चेहरे
नहाया आपने जब से
अपावन हो गई गंगा

तुम्हारे पास जन का प्यार
तुम नेता हमारे हो
बताना छोड़ दो अब तो
खड़ी हर भैंस को गइया