भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अंगद / हरि शंकर आचार्य

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

एक बगत हो
रामजी रै कैयां सूं
बाली रो बेटो
ऊभो, पग रोप’र
‘दस माथा’ आळै सामो
वो कोनी सरकार सक्यो
अंगद रो पग
चिणसोक।

आज सागी रावण
नवा माथा लगाय’र
ऊभो है आपरो पग रोप’र
अंगद नीं हिलाय पाय रैयो
उणरो पग
जाबक ई।