भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अंगना में चाॅंद / सुप्रिया सिंह 'वीणा'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अरे ओ, गुलाब फूल,
तोहे दै छै बड़ी शूल।
पिया संग मिलन रात,
प्रेम ग्रंथ के छै ई मूल।
तोरा देखी लागै छै गुलाब
पिया नगीचे में बैठी केॅ हमरोॅ
लाल रंग लै केॅ तोरोॅ,
रंगी देलकै हमरोॅ परान।
साँसों में सुगंध के समान
बसै छै पिया, हमरे जान,
कण-कण में रूप देखौं हुनके,
हाय कोय लागै सुंदर लोभान।
पिया संग रोॅ केकरा नै गुमान,
केना हम्में आधोॅ-अधूरा परान,
हम्में तेॅ पावी गुलाबोॅ के संग,
गुलाबी होय गेलोॅ छै हमरोॅ गान।
नया-नया होतै फेरू-फेरू विहान
पी संग करबै रातोॅ के सम्मान
फेरू हमरा अंगना में एैतै,
नया-नया सुन्नर चाँन।