भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अंगिका केॅ अपनावोॅ / मनोज कुमार ‘राही’

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अंगदेश के अपनोॅ बोली अंगिका,
एकरा सभ्भैं अपनावोॅ हो,
बहुतेॅ जरूरी छै समय के खातिर,
चलोॅ सभ्भैं सें मिली केॅ समझावोॅ हो
अंग देश के अपनोॅ

हमहूँ चलवै, तोहूँ चलिहोॅ,
मिलीजुली केॅ संगसंग जाय केॅ,
कुछ्छू दोसरा केॅ सुनी केॅ आपनोॅ सुनाय केॅ,
आवी चलोॅ अलख जगाय हो

आपनोॅ भाषा के छै बढ़ी महिमा भारी
इहेॅ बातोॅ केॅ समझोॅ सभ्भेॅ नरनारी,
सभा आरोॅ सम्मेलन करी केॅ,
विधायक आरो सांसद से मिली केॅ,
चलोॅ सरकार केॅ बतावोॅ हो
अंग देश के अपनोॅ