भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अंगिका फेकड़ा / भाग - 7

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


अट्टा-पट्टा नुनु केॅ सात बेटा
राजा, पाता, सीत, वसन्त, कुतवा
अड़गड़ मारो बड़गड़ जाऊँ, पानी पीये
पोखरिये जाऊँ
बबुआ कहै काँखी तर जाऊँ !


ओ ना मा सी धं
गुरूजी पढ़ंग
कुइयाँ में काँटोॅ
गुरूजी नाँटोॅ।


नैहरा में कै बार गांगो
सत-सत बेरी
अॅ ससुरारी मंे कै बार माँगों
एके बेरी।


उर्र बकरिया घाँस खो
चुक्का लेॅ बथान जो
चुक्का गेलौ फूटी
दूध लेलकौ लूटी।


रौदा उगोॅ गोसांय रौदा उगोॅ
तोरी बहुरिया जाड़ें मरेॅ
हमरी बहुरिया रौदा सेकेॅ।


रौदा उग रे बभना
मुरगी देबौ चखना
बिलैया देवौ कोर
काली माँय केॅ दीया बारबै
सगरे ई ंजोर।


रौदा छेकले बौध लागतौ
गोला बरद के पीज रोटी खैबे।


जाड़ा ऐल छै, पाड़ा ऐल छै
ओढ़ गुदड़ी।
बुढ़िया के दमाद ऐल छै
मार मुँगड़ी।


मामू हो मामू, डोॅर लागै छै
केकरोॅ डोॅर, बेटी केकरोॅ डोॅर?
बाघ छै, बघिनियाँ छै
झुन-झुन कटोरवा खेलै छै
सिकियो नै डोलै छै
भौजी माथा पर कमलोॅ सेनूर
भैया माथा पर कमलोॅ के फूल
उठोॅ हे भौजी पीन्होॅ पटोर
हम नै पिन्हबोॅ भंगा पटोर
आनभौं कचिया दागभौं ठोर
गुआ-गुआ केॅ पोछभौं लोर।