भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अंगिका माय नें सिखैने छै / रामधारी सिंह 'काव्यतीर्थ'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अंगिका माय नें सिखैने छै
जन्महै सें सभैं सिखैने छै

अंगिका माय आ हिन्दी मौसी
माय छोड़ी मौसी अपनैने छै

अंग देश के गोरव छिपल छै
वेद में भी नाम लिखैने छै

अंगिका केॅ समरिध साहित छै
सब विधा में पुस्तक रचैने छै

अंगिका अंग देश के भाषा
यें सब दिन सम्मान पैने छै

‘राम’ कहै सुनो हो अंगवासी
कैन्हें लोग मान घटैने छै।