भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अंगीठी और मैं / रामदरश मिश्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

इस भयानक ठंड में
अंगीठी के पास बैठा हूँ
दहकते कोयले की हँसी
उष्मा के फूल बन जा रही है मेरी त्वचा पर
मन गुनगुना रहा है
लगता है
मौन भाव से एक आत्मीय संवाद चल रहा है
मेरे और अंगीठी के बीच
एकाएक लगा कि अंगीठी कुछ कह रही है
शायद यह कि संवादियों के बीच थोड़ी दूरी बनी रहनी चाहिए
ताकि दोनों का अपना-अपा अस्तित्व बना रहे
देखो न
जैसे ही टूटेगी मेरे तुम्हारे बीच की दूरी
तुम मुझमय हो जाओगे
और मैं भी वह कहा रह पाऊँगी जो हूँ।
-6.1.2015