भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अंगीठी / रामदरश मिश्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

वह सोचता है कि
अच्छा हुआ महान नहीं बना
उसकी लपटें चारों ओर नहीं फैलीं
वह तो घर के कोने में
जलता रहा अंगीठी की तरह
और चुपचाप देता रहा-
भूखों को रोटियाँ
और ठिठुरते शरीरों को
उष्मा का धीमा-धीमा प्यार
और यह घर घर बना रहा।
-21.9.2014