भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अंगूर के दाने / आनंद खत्री

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अंगूर के आकर्षक रंग-बिरंगे दाने
बेस्वाद सी बाहरी खाल में दबी
ग़ज़ब सी मिठास-भरा रसीला गूदा
दांत से दबाया तो रस ही रस था।

थोड़ा और चबाया, चखा तो
ज़ायके की खोज बीज तक पहुँची
बीज था बेस्वाद सा
या मैं सवाब नहीं समझ पाया।