भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अंग्रेजी-2 / मथुरा नाथ सिंह ‘रानीपुरी’

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

14.
भूलोॅ नै दिन
छेलैनी वोकरे ई
देश अधीन।

15.
हिन्दी केॅ आशा
की करतै भला ऊ
अंग्रेजी भाषा।

16.
रहतौं देश!
अंग्रेजी उपदेश
लगतौं ठेस।

17.
अंग्रेजी भाषा
करतौं दुरदाशा
आरोॅ निराशा।

18.
करोॅ नै खेल
अंग्रेजें की करतौं
कहिया मेल।

19.
कैन्हौ ई छूट
डालतौं अंग्रेजी रे
फिरू सें फूट।

20.
कैन्होॅ ई चाल
भारती देहोॅ पर
अंग्रेजी खाल।

21.
कैन्होॅ ई प्यारोॅ
देवनागरी जारोॅ
अंग्रेजी लारोॅ।

22.
लुटलेॅ छेलै
लुटिये रहलोॅ छै
फिरू लुटतै।

23.
कैन्होॅ हबस
अंग्रेजें की करतै
हिन्दी बहस!

24.
करोॅ नी शान
रहतै सब दिन
ई हिन्दुस्तान।

25.
केकरोॅ मान
अंग्रेजी मेहमान
हिन्दी सुजान।