भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अंग्रेज जमाना नेरु, गरीब को तबाई, झम / गढ़वाली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

अंग्रेज जमाना नेरु, गरीब को तबाई, झम।
अंग्रेजी जमाना नेरु, बेंट थई बेगार झम॥
अंग्रेजी जमाना नेरु, अमीरु की शान, झम।
गरीबू की कमई नेरु, अमीरुन चाटी, झम॥
जनता का मुख नेरु, कनो लगयो ताला, झम।
दस का प्राण देदी नेरु, कांगरेसी टोली, झम॥
सुमन, नगेन्द्र मोलू नेरु, गढ़वाल का वीर, झम।
भारत का गरीब नेरु, तेरा ही सास, झम॥

शब्दार्थ