भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अंग देश केरो संत, छेलै गुरु मेँहीँ बाबा / छोटेलाल दास

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अंग देश केरो संत, छेलै गुरु मेँहीँ बाबा।
सुनि लेहो बाबा केरो, सुन्दर विचार हो॥
ईश्वर से नित डरो, आपनो कमाई करो।
घर-द्वार छोड़ो नहीं, नहीं परिवार हो॥1॥
नित सतसंग करो, तीनों काल ध्यान करो।
सब पाप परिहरो, गुरु के आधार हो॥
अपनाँ में मेल राखो, वचन मधुर भाखो।
‘लाल दास’ छोड़ो नहीं सद व्यवहार हो॥2॥