भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अंजुमन / रेशमा हिंगोरानी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सफ़-ब-सफ़,
चाँद से मुझ तक
सभी तारे थे खड़े…
उसी रस्ते से उतरते हुए देखा था उसे,

दिल में इक राह
बनाता
चला गया था मेरे…

चाँद सचमुच ही
अंजुमन में उतर आया था!

26.07.93