भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

अंटरियै चढ़ि चला हो दरवाजा / बघेली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बघेली लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

अंटरियै चढ़ि चला हो दरवाजा मा बोलै मोर
ये प्यारे वा दिन कउन थे जादिन कीन्ह्या प्रीति
दुख दै के न्यरे भया कउन गांव की रीति
अंटरियै चढ़ि चला हो दरवाजा मां बोलै मोर