भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अंततोगत्वा सब माटी है / अनुपमा पाठक

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आना है
आकर फिर
चल देने की परिपाटी है...
माटी का दिया
माटी के इंसान
अंततोगत्वा सब माटी है...

कहते हैं, चलते रहने से
गंतव्य तक की दूरी
कम हो जाती है...
अंतिम बेला दिवस की
अवसान समीप है
खुद से दूरियां भी कहाँ गयीं पाटी हैं...

निभ रही बस
आने और चल देने की परिपाटी है... !!