भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अंतर्बोध / मंजुश्री गुप्ता

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कोशिश करती हूँ
हर पल को जीने की
हर पल से थोड़ी सी -
खुशियों की चोरी की
मगर होता है
अक्सर ऐसा क्यों ?
कई पल दे जाते हैं
दर्द का
उमड़ता घुमड़ता एहसास
खुद से प्रश्न करती हूँ
उत्तर मिलता है-
कहाँ बनाया है
हर पल को मैंने अपना
वो तो गिरवी है
औरों के पास
नियंत्रण नहीं
मेरा किसी पर
इसलिए मिलते हैं
घात प्रतिघात
ख़ुशी के लिए औरों पर
निर्भर न बन
सूरज की तरह न सही
दीप सी जल
उर्जा और ख़ुशी का
अजस्र स्रोत तो है
स्वयं के ही पास!