भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अंतिम अनुभव / जगन्नाथप्रसाद 'मिलिंद'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

प्राणों की यह अमर प्यास ही जब प्रेमामृत-कण हो
नयनों की अनिमेष प्रतीक्षा ही तेरा दर्शन हो
श्रवणों की आकुलता ही तव पद-ध्वनि, जीवन-धन हो
मेरा उत्सुक बाहुपाश ही तेरा आलिंगन हो
तेरा निविड़ मिलन बन जावे यह सूनापन कम हो
विरह-वेदना ही जब, प्रियतम, अनुभव चरम मिलन हो
उन तन्मय घड़ियों में तेरा आना और न जाना,
अपने में तुझको पाकर फिर तुझ में तुझको पाना।