भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अंदाज़ा ही बहक न गया था / शमशेर बहादुर सिंह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अन्दाज़ा ही बहक न गया था निशाँ के पार
थी सैद की निगाह भी तीरो-कमाँ के पार!

आज़ादियाँ हैं खित्तए-बहम-ओ-गुमाँ के पार
आओ बसाएँ एक जहाँ इस जहाँ के पार!

ख़ामोशिए-दुआ हूँ, मुझे कुछ ख़बर नहीं
जाती हैं क्या सदाएँ तेरे आस्ताँ के पार!

सात आसमान झुक के उठाते हैं किसके नाज़?
किसकी झलक-सी है चमने-कहकशाँ के पार?

इतना उदास आपका दिल किसलिए हुआ?
हर दर्द की दवा है, ज़मानो मकाँ के पार!

क़ायम महाज़ अम्न के हिन्दोस्ताँ से हो!
फ़ौजें न जाएँ सरहदे-हिन्दोस्ताँ के पार!


शब्दार्थ :

सैद=शिकार; खित्तए-वहम-ओ-गुमाँ=वहम और गुमान का घेरा; चमने-कहकशाँ=आकाशगंगा का उपवन; अम्न के=शान्तिक्षेत्र