भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अंदाज़ / तुम्हारे लिए, बस / मधुप मोहता

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

वो जो अंदाज़ है उसका क़रीब आने का
धीरे-धीरे क़रीब और क़रीब और क़रीब
हौले-हौले से मेरा गीत गुनगुनाने का,
फिर तसव्वुर मंे चुपचाप बिखर जाने का
जैसे यकलख़्त कोई गुल खिले वीराने में
दिल के मयख़ाने में शम’अ जरा रोशन हो
नीम तारीक सी रातों में चाँदनी की किरन
आए आहिस्ता से आग़ोश मंे सिमट जाए,
खेल-ही-खेल में दिल-दिल न जान-जाँ न रहे
और हम हम न रहे दिल पे जब वो बन आए
वो तो बेबस है चलो हम पे ही बस चला है
उसका हक़ है न मेरे दिल में उतर आने का।