भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अइपन पिसिले, कोहबर लिखिले/ मगही

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मगही लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

अइपन[1] पिसिले, कोहबर लिखिले, लिखली मनचित लाय[2] रे।
दिलजान लिखों कोहबर, मनमोहन लिखों कोहबर॥1॥
ताहि कोहबर सुतलन कवन दुलहा, जवरे सजनवाँ के धिया रे।
दिलजान लिखलों कोहबर, मनमोहन लिखलों कोहबर॥2॥
ओते सूतूँ, ओते सूतूँ, सुगइ कवन सुगइ, तोरे पीठे[3] गरमी बहूत रे।
दिलजान लिखों कोहबर, मनमोहन लिखांे कोहबर॥3॥
अतिना[4] बचन जब सुनली कवन सुगइ, रूसि नइहर चलि जाय रे।
दिलजान लिखलों कोहबर, मनमोहन लिखलांे कोहबर॥4॥
रहिया में रे भंेटलन भइया, कवन भइया, कहाँ बहिनी चललू अकेल रे।
दिलजान लिखों कोहबर, मनमोहन लिखांे कोहबर॥5॥
लाज सरम केरा बात जी भइया, कहलो न जाए, परपूता[5] बोलले कुबोल रे।
दिलजान लिखों कोहबर, मनमोहन लिखांे कोहबर॥6॥
हँसि हँसि चिठिया जे लिखथिन कवन दुलहा,
देहुन गल[6] पियारो[7] सरहज हाँथ रे।
दिलजान लिखों कोहबर, मनमोहन लिखांे कोहबर॥7॥
मानु मानु[8] ननद हे हमरी बचनियाँ,
आजु सोहाग केरा रात रे।
दिलजान लिखों कोहबर, मनमोहन लिखांे कोहबर॥8॥
कइसे में मानूँ हे भउजी, तोहर बचनियाँ,
परपूता बोलले कुबोल रे।
संखा चुरी[9] देलन मसकाय[10] रे, डाँसल सेजिया[11] उदासे[12] रे।
दिलजान लिखों कोहबर, मनमोहन लिखांे कोहबर॥9॥
मानु मानु ननद हे हमरी बचनियाँ।
फेनु कै[13] सेजिया डसायब रे, फेनु देबो संखा चूरी पेन्हाय रे।
दिलजान लिखों कोहबर, मनमोहन लिखांे कोहबर॥10॥
मानली कवन सुगइ चललि बिहँसि रे।
दिलजान लिखों कोहबर, मनमोहन लिखांे कोहबर॥11॥

शब्दार्थ
  1. आटा को पानी में घोलकर अथवा चावल पीसकर बनाया गया तरल पदार्थ, जिससे कोहबर में चित्र बनाया जाता है
  2. मन लगाकर
  3. पीठ में
  4. इतना
  5. पराये का पुत्र
  6. दे आओ
  7. प्रिय, प्यारी
  8. मान जाओ
  9. शंख की चूड़ी
  10. तोड़
  11. बिछाया हुआ, बिछावन
  12. उदास
  13. फिर से