भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अइसहीं बितइहों कि चितइहों चित लाई के / महेन्द्र मिश्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अइसहीं बितइहों कि चितइहों चित लाई के।
नाथ हो अनाथन के तू बइठे हो भुलाई के।
होइहें बदनामी तोहे कपटी कहाई के।
कूबड़ी फँसाई तोहे चन्दनल लगाई के।
सेबरी के भगती देलऽ जूठे बइर खाई के।
ले गइलें रावण जब जानकी चोराई के।
घर में तू दरसन देलऽ सत्रुता बढ़ाई के।
महेन्द्र निहारे अबतऽ सुरती लगाइ के।
हमरो के दरसन दीहऽ घरहीं बोलाई के।