भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अइसी वइसी बहस कै रही / भारतेन्दु मिश्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अइसी वइसी बहस कै रही
गाँवन केरि जवानी
ट्वाला-ट्वाला अलग हुइ रहे
सबकी अपनि कहानी।

थ्वारा पढ़ि-लिखि कै घरहे-मा
हुइगे आलिम-फाजिल
राजनीति का अरथु न जानैं
हुइगे दल मा सामिल
गाँजा औ दारू मइहाँ
मरिगा आँखिन का पानी।

अपन फायदा देखि रहे सब
अतनी भवै तरक्की
सबकी फिकिर करै वाले का
नाँव धरे हैं झक्की
ई ट्वाला के दिलजानी।

जाति धरम के चौराहेन पर
अब चलती हैं लाठी
गदहा क्यार बार बनवावैं
कउनौ माँगै काठी
केतनेव भये फैसले
मुलू या जनता एकु न मानी।