भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अए दिले नाकाम आखिर किसलिए / बलबीर सिंह 'रंग'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अए दिले नाकाम आखिर किसलिए,
गर्दिशे अय्याम आखिर किसलिए।

आपके पैग़ाम आखिर किसलिए,
हर किसी के नाम आखिर किसलिए।

पाक दामानी में शोहरत आपकी,
हम हुए बदनाम आखिर किसलिए।

मैक़दे में साक़िया तेरा वजूद,
फिर भी खाली जाम आखिर किसलिए।

मैक़दे में साक़िया तेरा वजूद,
फिर भी खाली जाम आखिर किसलिए।

अपनी-अपनी बज़्म की रंगीनिया,
‘रंग’ पर इल्ज़ाम आखिर किसलिए।