भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

अक़्ल बड़ी बे-रहम थी / ख़ुर्शीद अकरम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दिल को उस के दुख की घड़ी में
तन्हा छोड़ दिया
जिस्म ने लेकिन साथ दिया
दुख के गहरे सागर में
दिल को छाती से लिपटाए
जिस्म की कश्ती
होल रही है डोल रही है
अक़्ल किनारे पर बैठी
मीठा मीठा बोल रही है
दुनिया के हँगामों में
उल्टी जस्त लगाने को
बाज़ू अपने तौल रही है