भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अकेली स्त्री का दुख / नील कमल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अकेली स्त्री की
कलाई पर,
वक़्त की टिक्-टिक्
नहीं सुनी किसी ने

मौसम की हर करवट
कैलेण्डर के पन्नों से बाहर
पेड़ों पर उगते,
पेड़ों से झरते,
पत्तों में महसूस करती है
अकेली स्त्री,

कपास के ढेर से
बुरे दिनों की यादों के गर्द
अलगाती, वह
अच्छे दिनों की यादों को
नर्म उजले फाहों में
समेट लेना चाहती है ।