भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अकेलो पंहिंजे अॻियां वेठो होसि, / अर्जुन हासिद

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अकेलो पंहिंजे अॻियां वेठो होसि,
चयुमि थे, झट थो उथां वेठो होसि!

पथारे झोल तमन्नाउनि जो,
मिली वञे की किथां, वेठो होसि!

कॾहिं त राह जे पत्थर वांगुर,
ॾिसां, ॿुधां, न कुछां, वेठो होसि!

गुलनि जी महक ॾिनी बेचैनी,
वियो लंघे को हितां, वेठो होसि!

पुछां का ॻाल्हि लॻां वेचारो,
किथे वञी हा लिकां, वेठो होसि!

तनाउ सोच जो एॾो हासिद,
लिखां ॿ लफ़्ज़, मुंझां, वेठो होसि!