भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

अक्कड़ बक्कड़ / श्रीप्रसाद

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अक्कड़ बक्कड़ बंबे भो
अस्सी नब्बे पूरे सौ
सौ चूहों ने मिलकर बिल्ली
एक पकड़ ली जब
चारों पैर बाँध रस्सी में
खूब जकड़ ली जब
चले डुबाने उसे नदी में
रोई अब बिल्ली
खाकर कसम कहा रक्खूँगी
मैं सबसे मिल्ली

हर चूहे के पैर छुए फिर
माँगी जब माफी
हाथ जोड़कर विनती भी की
चूहों से काफी
तब चूहों ने छोड़ा उसको
भागी अब बिल्ली
सब कहते हैं जाकर पहुँची
वह सीधे दिल्ली

अब वह दिल्ली में करती है
हरदम शैतानी
उसे देखकर के आई हैं
कल मेरी नानी
अक्कड़ बक्कड़ बंबे भो
अस्सी नब्बे पूरे सौ।