भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अक्षरों का संगीत लेकर / सरस्वती माथुर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आओ ठीक करें
रिश्तों कि तहें
तितली, गिलहरी गुलाब
धूप की बातें करें
पतीसे थोड़ी सी
हरीतिमा उधार लेकर
चह्कते पक्षियों से
अक्षरों का संगीत लेकर
खिड़की की तरह खोल दे
दिल के दरवाज़े
अपनी आभा
अपनी गंध मिला कर
सुखद सूर्य की कामना करें
धूप से लेकर रोशनी सपनो की
कर दे रूपाभ
रिश्तों की दीपशिखा से
और भर लें
अपना आकाश ख्वाइशों के
कलरव करते पक्षियों से !