भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अक्षरों की मृत्यु / प्रवीन अग्रहरि

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मौत हो जाएगी जब अक्षरों की
और उन्हें लात से धकेल कर
दफ़न कर दिया जाएगा किसी कब्र में
शब्द बैठा होगा दाग़ लिए
सर मुंडाए
तब ये कविताएँ चीख-चीख कर रोयेंगी,
रुदाली बनकर।
साल दर साल उस कब्र में उगते रहेंगे
ये लफ्ज़ घास की मानिन्द
और लहलहा जाएंगे
फिर से...