भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अक्षर ज्ञान / फुलवारी / रंजना वर्मा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

'अ' अनार और 'आ' से आओ हिल मिल गायें गीत
'इ' इंसानों का हो आदर 'ई' ईश्वर से प्रीत।
'उ' से उठना रोज सवेरे 'ऊ' से ऊँघ न जाना।
'ए' से एक बार ईश्वर को झुक कर शीश नवाना
'ऐ' ऐनक दादा जी का और 'ओ' से ओम पुकारो
'औ' औरत ममता की मूरत तन मन उस पर वारो।
'अं' अंगूर अनोखा फल है स्वास्थ्य बनाने वाला।
स्वस्थ शरीर सदा से होता है बुद्धि का रखवाला।
आओ हम सब मिलकर बोलें - अ आ इ ई उ ऊ ए ऐ ओ औ अं अ:।

'ऐ' के बाद सदा 'ऋ' आता इस से ऋषि बनता है
ईश भक्त वेदों का ज्ञाता पूज रही जनता है॥