भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अक्सर मिलना ऐसा हुआ बस / 'अना' क़ासमी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अक्सर मिलना ऐसा हुआ बस
लब खोले और उसने कहा बस

तब से हालत ठीक नहीं है
मीठा मीठा दर्द उठा बस

सारी बातें खोल के रक्खो
मैं हूं तुम हो और खुदा बस

तुमने दुख में आंख भिगोई
मैने कोई शेर कहा बस

वाकिफ़ था मैं दर्द से उसके
मिल कर मुझसे फूट पड़ा बस

जाने भी तो बात हटाओ
तुम जीते मैं हार गया बस

इस सहरा में इतना कर दे
मीठा चश्मा,पेड़,हवा बस