भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अक्स भी कब शब-ए-हिज्राँ का / 'फ़ुगां'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अक्स भी कब शब-ए-हिज्राँ का तमाशाई है
एक मैं आप हूँ या गोशा-ए-तन्हाई है

दिल तो रुकता है अगर बंद-ए-क़बा बाज़ न हो
चाक करता हूँ गिरेबाँ को तो रुसवाई है

ताक़त-ए-ज़ब्त कहाँ अब तो जिगर जलता है
आह सीने से निकल लब पे मेरे आई है

मैं तो वो हूँ कि मेरे लाख ख़रीदार हैं अब
लेक इस दिल से धड़कता हूँ कि सौदाई है

दिल-ए-बे-ताब 'फ़ुग़ाँ' उम्मत-ए-अय्यूब नहीं
न उसे सब्र है हरगिज़ न शकेबाई है