भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अखबार की समस्या / कमलेश द्विवेदी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

है जीत की समस्या या हार की समस्या.
हमको न अब बताओ बेकार की समस्या.

ये मान लो कि तुमसे कुछ भी नहीं मैं कहता,
होती अगर जो केवल दो-चार की समस्या.

कछुआ भी रेस जीते जब वो चले निरन्तर,
हो लाख संग उसके रफ़्तार की समस्या.

चुटकी में हल किये हैं मुश्किल सवाल उसने,
पर कैसे हल करे वो परिवार की समस्या.

बीमार की दवाई में सब लगे हैं लेकिन,
कोई नहीं समझता बीमार की समस्या.

हमसे हैं लाख बेहतर दरिया-हवा-परिंदे,
सरहद,न हद,न कोई दीवार की समस्या.

हमको जो सच लगा है हमने वही लिखा है,
छापे-न छापे ये है अखबार की समस्या.