भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अखबार जैसा दिन / गुलाब सिंह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सुबह की खिड़की खुली
अखबार जैसे
गिर गया है दिन।

बढ़ गई फिर
शहर के नाखून-सी
टेढ़ी नदी
सीढ़ियाँ विज्ञापनों की
चढ़ गई
प्यासी सदी

डूबने के डर सरीखे
झाँकते घर
छत-मुँडेरों बिन।

सुर्खियों-से
सड़क या पगडण्डियों पर
उग रहे काँटे
सीत के सैलाब बहते
भीड़ के
बेनाम सन्नाटे

ख़बर है
जल उतरने के बाद
दूने हो गए दुर्दिन।