भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अखरे गोबर से सासु अंगना नीपलियै / अंगिका

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

अखरे गोबर से सासु अंगना नीपलियै
ओहि चढ़िनाहियाबहु भैया के बटिया,
सासु जेबै नैहरबा ओहि चढ़ि ना ।
काटबै सामल सीकिया,
बेढयै जमुनमा ओहि चढ़ि ना ।
सासु जेबै नैहरबा ओहि चढ़ि ना ।।
एक चेहरि खेबल रे मलहा दुई चेहरि खेबले
तेसर चेहरि डूबलै भैया के बहिनो है कि ।
ओहि चढ़ि ना ।
अम्मा जे सुनतै रे मलहा कोसी घंसि मरतै रे कि,
बाबा जे सुनतै रे मलहा धरती लोटेतै हे कि,
भैया जे सुनतै रे मलहा जाल बाँस खिरेतै रे कि
भौजी जे सुनतै रे मलहा भरि मुँह हँसतै रे कि
भने ननदो डूबली रे की ।
ओहि चढ़ि ना ।