भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अख़बारों के कवर किताबों पर / विजय किशोर मानव

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अख़बारों के कवर किताबों पर
विज्ञापन हैं मढ़े गुलाबों पर

चाबुक दिन के, चलते पीठों पर
रात कमीशन लेती ख़्वाबों पर

मुल्क़ हो गया है कारिंदों का
लगे ठगी के जुर्म नवाबों पर

हर सूरत पर कालिख़ पुती हुई
नाम-नाम लिख लिया नक़ाबों पर