भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अखूट जातरा में / ओम पुरोहित कागद

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

थेड़ में
सूत्यै सै’र
काळीबंगा री गळियां
कठै ई तो जावै है
जिण में जांवता
आंवता रैया होसी
लोगड़ा
अबै भंवै
हांय-हांय करतो बायरियो
फळसै सूं बड़
छाता सूं निसर
अणमणो परबारो निसरै
अखूट जातरा में
बिना लियां
माणस रो परस।