भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अगडू़-झगडू़ / होरीलाल शर्मा 'नीरव'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आजू-राजू दोनों
दो-दो गुब्बारे ले आए

माँ को पास बिठाकर
अगडू़-झगडू़ दो बनवाए।

पेट बड़ा-सा, छोटा-सा सिर
बिल्कुल ढीलम-ढालू,

जैसे लाल टमाटर पर हो
रक्खा छोटा आलू।

निकली तब तक हवा पिचककर
गिरे भूमि पर झगडू़,

रहे देखते बड़ी देर तक
आँखें फाड़े अगडू़।